Bageshwar Dham Sarkar|सम्पूर्ण जानकारी

आज पूरे देश में एक ही चर्चा का विषय बना हुआ है और वो है “बागेश्वर धाम सरकार, आचार्य धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री”।

हर कोई जानना चाहता है , बागेश्वर धाम कहां है और क्यों प्रसिद्ध है? धीरेंद्र शास्त्री कौन है? बागेश्वर धाम की महिमा क्या है? धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के चमत्कारों के बारे में जानना चाहता है।

इस आर्टिकल में बागेश्वर धाम के बारे में सम्पूर्ण जानकारी दी जाएगी। हर सवाल के जवाब के लिए पढ़ना जारी रखें।आपकी उत्सुकता समाप्त करते हुए सबसे पहले बात करते हैं,”बागेश्वर धाम सरकार”की!

बागेश्वर धाम सरकार कहां है?(Bageshwar Dham sarkar kaha hai?)

बागेश्वर धाम सरकार एक चमत्कारिक मंदिर है जो मध्य प्रदेश में स्थित है।इस मंदिर में हनुमान जी, भगवान बाला जी के रूप में विराजमान है। 

मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के खजुराहो पन्ना रोड पर स्थापित, छोटे से कस्बे गंज से 35 km दूर बागेश्वर धाम में स्थित है। दोस्तों, आपके मन में प्रश्न उठ रहा होगा कि बागेश्वर धाम सरकार मंदिर क्यों फेमस है? आइए जानते हैं।

बागेश्वर धाम सरकार मंदिर क्यों फेमस है?(Bageshawar Dham Mandir kyu famous Hai?)

Bageshwar Dham Sarkar
Bageshwar Dham Sarkar

जैसा कि बताया गया है कि बागेश्वर धाम मंदिर बाला जी का चमत्कारिक मंदिर माना जाता है। हनुमान जी के मंदिर के सामने महादेव जी का मंदिर है। बागेश्वर धाम सरकार मंदिर के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी हर सप्ताह बाला जी का दरबार लगाते हैं।

मान्यता है कि हर मंगलवार को लोगों के द्वारा इस मंदिर में अर्ज़ी लगाई जाती है और सबका कष्ट निवारण किया जाता है।आप सभी जानना चाहते होंगे कि अर्जी कैसे लगाई जाती है? उससे पहले बागेश्वर धाम का इतिहास जान लेते हैं, आखिर इस मंदिर में ऐसा क्या हुआ?

बागेश्वर धाम का इतिहास क्या है?(History of Bageshwar Dham)

पहले ही बताया गया है कि छतरपुर जिले के छोटे से कस्बे गंज से 35 km दूर है बागेश्वर धाम मंदिर जो बाला जी का बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है।देश के कोने कोने से लोग दर्शन करने आते हैं।

कुछ साल पहले 1986 में बागेश्वर धाम मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया। उसके बाद मंदिर की महिमा चारों और फैलाने लगी।1987 में संत सेतु लालजी महाराज का आवागमन हुआ।उसके बाद धीरे धीरे लोगों में इस मंदिर के प्रति विश्वास बढ़ने लगा। सेतु लाल जी महाराज, धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के दादाजी थे।

 2012 में बागेश्वर धाम के आचार्य धीरेंद्र कृष्ण गर्ग , भक्तजनों की हर समस्या के निवारण हेतु बालाजी भगवान का दरबार लगाने लगे।  और लोगों का कष्ट दूर होने लगा। इस मंदिर की प्रतिष्ठा बढ़ने लगी।

भक्तजनों के द्वारा अर्ज़ी लगाई जाती है और जो अर्ज़ी स्वीकार की जाती है भगवान बाला जी के द्वारा , फिर उनकी समस्या का समाधान किया जाता है, दरबार में।

सबसे दिलचस्प बात ये है कि बागेश्वर धाम मंदिर के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री, बाला जी के दरबार में किसी भी unknown व्यक्ति का नाम बोलते हैं और उसकी समस्या सुने बिना ही पर्ची पर समाधान लिख दिया जाता है।

है ना हैरान कर देने वाली बात?इसी बात को आगे बढ़ाते हुए पहले आचार्य धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की चमत्कारिक शक्ति के बारे में जान लेते हैं !

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री कौन हैं?( Who is Dhirendar Krishna Shastri?)

Bageshwar Dham Sarkar/Maharaj के नाम से प्रचलित Dhirendar krishna shastri देश के कोने कोने में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मशहूर हैं।

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री, मध्य प्रदेश के जिला छतरपुर के छोटे से गांव गढ़ागंज में पैदा हुए, यही उनका पैतृक गांव है। प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही सरकारी स्कूल से हुई। गरीब परिवार से ताल्लुक रखने के कारण उच्च शिक्षा के लिए अच्छे कालेज न जा सके। पास ही के गांव से BA की स्नातक डिग्री ली।

1986 में Bageshwar Dham के पुजारी संत सेतु लाल जी महाराज थे, जो धीरेंद्र कृष्ण गर्ग के दादाजी थे।दादाजी को ही अपना गुरु माना और  9 वर्ष की आयु से ही बागेश्वर धाम की सेवा में लग गए। हनुमान जी की भक्ति में कई सिद्धियां प्राप्त की।2003 से बागेश्वर धाम में कथावाचक बन गए।

Dhirendar Krishna Shastri ji  के जीवन परिचय के बाद आगे बात करते हैं कि Dhirendar Krishna Shastri दरबार कैसे लगाते हैं और कैसे अर्जी की जाती है?

काफी रोचक विषय है ये, ध्यान से पढ़िएगा।

Bageshwar Dham Sarkar में कैसे अर्जी लगाई जाती है?

बागेश्वर धाम सरकार में देश के कोने कोने से श्रद्धालु आते हैं और दरबार में अर्ज़ी लगाते हैं। कहा जाता है कि बागेश्वर धाम महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री हर मंगलवार और शनिवार को बालाजी का दरबार लगाते हैं। हजारों लाखों की संख्या में भक्तजन अर्ज़ी

लगाते हैं और अपनी समस्या का निवारण चाहते हैं।लेकिन अर्ज़ी मंगलवार को ही लगाई जाती है।बागेश्वर धाम में अर्ज़ी कैसे लगाते है?बागेश्वर धाम में हर मंगलवार अर्ज़ी लगाने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ती है।

अपनी समस्या को एक पर्ची पर लिखकर लाल, पीले, या काले कपड़े में लपेटकर नारियल से बांध दिया जाता है और मंदिर के परिसर में रख दिया जाता है।

अब आप जानना चाहते होंगे कि लाल पीले और काले कपड़े का क्या राज़ है?

  • अगर आपकी सामान्य समस्या है तो लाल कपड़े का प्रयोग करें।
  • अगर आपकी विवाह संबंधित समस्या है तो पीले वस्त्र का प्रयोग करें।
  • अगर भूत प्रेत से संबंधित समस्या है तो काले वस्त्र का प्रयोग करें।

सबसे ध्यान देने योग्य बात ये है कि जो लोग पहली बार बागेश्वर धाम के दरबार में आते हैं उन्हें टोकन दिया जाता है।सवाल उठता है कि ये टोकन क्या है?( What is tokan?)

टोकन में व्यक्ति का मोबाइल नंबर और नाम की पूरी जानकारी दी जाती है। इस टोकन में दर्शन का महीना और तारीख लिखी जाती है। उसी वक्त पर आपकी अर्ज़ी

लगती है। उस टोकन के बिना दर्शन संभव नहीं।चाहे सच हो या न हो पर वास्तविकता यही है कि जिस भी श्रद्धालु की अर्ज़ी दरबार में लगती है, वही दर्शन को आते हैं। 

बागेश्वर धाम सरकार धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री दरबार में unknown व्यक्ति का नाम पुकारते हैं और बिना बताए ही पर्ची पर समाधान लिख देते हैं। इसे चमत्कार माने या अंधविश्वास ये आपकी सोच पर निर्भर करता है।

अभी भी एक जानकारी बाकी है, पढ़ना जारी रखें।

Bageshwar Dham sarkar में घर बैठे अर्ज़ी कैसे लगा सकते हैं?

 जी हां, कई भक्तगण जो दरबार में उपस्थित नहीं हो पाते उनके लिए भी आसान हो गया।वे घर बैठे ही बालाजी के दरबार में अर्ज़ी लगा सकते हैं। नारियल को अपने ही घर के मंदिर में श्रद्धा नुसार रख दिया जाता है।

अब प्रश्न उठता है कि कैसे पता चलेगा कि अर्ज़ी स्वीकार हो गई।अर्ज़ी का नारियल मंदिर में रख देने के बाद यदि रात को परिवार के किसी भी सदस्य को सपने में बंदर दिखे तो मान लीजिए अर्ज़ी स्वीकार कर ली गई है। 2 रातों का समय दिया जाता है।

अगर ऐसा न हो तो  2,3 मंगलवार तक same procedure कीजिए, अर्ज़ी जरूर स्वीकार होगी।और इस तरह बागेश्वर धाम सरकार

 Dhirendar Krishna Shastri ji की चमत्कारिक शक्तियों से श्रद्धालुओं की समस्याओं का समाधान किया जाता है।

Bageshwar Dham Sarkar के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न….

1.)बागेश्वर धाम कहां है?

Ans. Bageshwar Dham Sarkar, मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के खजुराहो पन्ना रोड पर छोटे से कस्बे गंज से 35km दूर बागेश्वर धाम में स्थित है।

2.)Bageshwar Dham Sarkar क्यों फेमस है?

Ans. Bageshwar Dham Sarkar, भगवान बालाजी का चमत्कारिक मंदिर है, जहां हनुमान जी बालाजी के रूप में विद्यमान हैं। मात्र दर्शन से , अर्जी लगाकर लोगों के कष्टों का निवारण होता है।

3.) Bageshwar Dham Sarkar/Maharaj Kaun Hai?

Ans. Bageshwar Dham Sarkar/ Maharaj के नाम से प्रचलित है धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी।

4.) Bageshwar Dham दरबार कब लगता है?

Ans. सप्ताह के सभी दिन लगता है परंतु मुख्य रूप से मंगलवार और शनिवार को लगता है। मंगलवार को ही अर्जी लगाई जाती है।

5.) Bageshwar Dham कैसे जाया जा सकता है?

Ans. By road, by air, by train

By road कार या बस से जा सकते है। दिल्ली से सीधी बस मिल जाती है।

By Air.. इसके लिए आपको खजुराहो तक फ्लाइट लेनी होगी आगे कार या बस hire कर सकते हैं।

By train se bhi Jaya ja सकता है।

 6.) Bageshwar Dham में किस भगवान की पूजा होती है?

Ans. बागेश्वर धाम में हनुमान जी बाला जी के रूप में विद्यमान है, इसलिए मंगलवार को ही बालाजी का दरबार लगता है।

7.) Bageshwar Dham कौनसे जिले में स्थित है?

Ans. Bageshwar Dham, मध्यप्रदेश के जिला छतरपुर से 35 km दूर है।

8.) अर्ज़ी लगाने के लिए किस रंग के कपड़े का प्रयोग होता है?

Ans. तीन रंग के कपड़े में अर्जी लगाई जाती है। सामान्य समस्या के लिए लाल, विवाह संबंधित समस्या के लिए पीला, और भूत प्रेत से संबंधित समस्या के लिए काले कपड़े का प्रयोग किया जाता है!

9.) Bageshwar Dham Maharaj Dhirendar Krishna Shastri जी की age क्या है?

Ans. Dhirendar krishna shastri जी की age (2023 me) 27 वर्ष है।

10.) धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री, समस्याओं का निवारण कैसे करते हैं?

Ans. पहले अर्जी लगाई जाती है। स्वीकार होने पर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री, पर्ची पर बिना व्यक्ति से पूछे समाधान लिख देते हैं और इस प्रकार कष्टों का निवारण होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *