live in relationship in Hindi|Live-in Relationship में क्या जरुरी है?

live in relationship in Hindi-रिश्तों की बिसात पर ना जाने कितने खेल खेले जाते हैं!  कुछ ज़माने की नज़रों में  रहकर और कुछ जमाने से छुपकर! ऐसा ही एक रिश्ता है,LIVE IN  RELATIONSHIP का ,हर कोई उत्सुक रहता है।

 यही जानने के लिये आखिर क्या रिश्ता है ये, जो हमारा  समाज स्वीकार नहीं  करता फिर भी लोग इस रिश्ते में  रहना चाहते हैं।

इस आर्टीकल में  हम Live in Relationship in Hindi  के बारे में  बारीकी से जानेंगे कि  किस हद तक इस रिश्ते में  रहना उचित है?  ये रिश्ता आखिर है क्या? क्या भविष्य है, ऐसे रिश्ते का?

लिव इन रिलेशनशिप का अर्थ। Definition of LIVE IN RELATIONSHIP in Hindi.

पश्चिमी सभ्यता से प्रेरित बहुत से रिवाज़ हमारे देश में बहुत ही आसानी से अपना लिये जाते हैं, हालाँकि ज़माना चाहे कितनी भी उंगलियाँ उठाये लेकिन Relationship से  संबंधित हर बात हर पीढ़ी को लुभाती है!

इनमें  से ही एक रिश्ता “LIVE IN RELATIONSHIP “ है ,जिसमें ज्यादातर लोग काफ़ी दिलचस्पी दिखाते हैं!

“LIVE IN RELATIONSHIP ” का मतलब है ,18+ ग्रुप वाले या इससे अधिक अपनी मर्ज़ी से एक साथ रहने का फ़ैसला करते हैं! शादी की आवश्यकता ही नहीं! शारीरिक रिश्तों में  भी कोई बंदिश नहीं  होती!

 इस संबंध  को सही तरीके से जानना बहुत ही आवश्यक है! आइये इस रिश्ते के कुछ और पहलुओं पर नज़र डालते हैं!

LIVE IN RELATIONSHIP IN HINDI : सही या गलत (RIGHT OR WRONG?)

 सदियों से चली आ रही परम्परा जो हमारी संस्कृति,सभ्यता और आध्यात्म को प्रभावित करती है, सात जन्मों का रिश्ता कहलाती है!

जी हाँ, विवाह,शादी,निकाह,Marriageजिस भी नाम से पुकारा जाये,समाज में मान्यता प्राप्त  सम्बंध, जो हमारे खानदान की इज़्ज़त का भी प्रतीक है!

जो हमें इस समाज में  पूरे आत्मसम्मान से जीने की आज़ादी देता है!  शादी के बन्धन के विपरीत, बिना शादी किये साथ में  रहना कोई आसान बात नहीं  है!

चाहे सुप्रिमकोर्ट  से भी स्वीकृति मिल गई हो परंतु आज भी समाज का बहुत बड़ा  वर्ग बिना शादी किये साथ में  रहने को निम्न नजरों से ही देखता है!

 इसके विपरीत ज़माने को दरकिनार करके अगर हम लोगों के विचार जानेंगे तो अचंभित हो जायेंगे! हर किसी के अपने ही विचार!

आज की Generation ज्यादा प्रभावित है, इस रिश्ते को लेकर! शायद हर इन्सान आज़ादी चाहता है जो इस रिश्ते में  आसानी से मिल सकती है!

कभी कहा जाता था, शादी का लड्डू जो खाए वो भी पछताए, जो ना खाए वो भी पछताए!आजकल ये कहावत पलट गई है शायदशादी का लड्डू ना खाए  तो ही बेहतर है ,जब बिना शादी किये चाहे कितने ही लड्डू खा सकते हैं तो शादी करने से पहले एक साथ रहना ही सबसे अच्छी OPTION है!

LIVE IN RELATIONSHIP (IN HINDI)के अच्छे और  बुरे प्रभाव जानने के लिये इसके फायदे और नुकसान को अच्छी तरह से समझना होगा! आँख बंद करके किये गये फैसले अक्सर ज़िंदगी बर्बाद कर देते हैं!सही या गलत ये तो अलग अलग सोच पर  निर्भर करता है! आइये समझने का प्रयत्न करते हैं!

LIVE IN RELATIONSHIP के फायदे.

Live in Relationship in Hindi
Live in Relationship in Hindi  

 जैसे कि कुछ पहलुओं से इतना तो समझ आ गया! शादी का दूसरा option LIVE-IN RELATIONSHIP हो सकता है! लेकिन इस रिश्ते में  जाने से पहले इसके सकारात्मक पहलुओं पर नज़र डालना बेहद आवश्यक है,जो इस प्रकार हैं:‐

1.इस रिश्ते में आने से पहले लड़का और लड़की बालिग होते हैं! साथ में  रहकर अपने आने वाले भविष्य को निर्धारित कर  सकते हैं कि आगे चलकर शादी करना सही होगा या नहीं!

2. इस रिश्ते में लड़का और लड़की को जीने की आज़ादी मिलती है! एक दूसरे से कोई सवाल जवाब नहीं  होता! एक दूसरे के साथ रहकर बिंदास अपनी- अपनी ज़िंदगी जी सकते हैं!

3. ये एक ऐसा रिश्ता है जिसमें रहकर दोनों  को सभी कार्य स्वयं ही करने होते हैं! और इससे वे अपने उत्तरदायित्त्व  को समझने लगते हैं!

4. बिना शादी किये एक साथ रहने में  लड़का लड़की को एक दूसरे के साथ अधिक समय मिलता है! एक दूसरे को भली भान्ति समझ सकते हैं!

5. LIVE-IN RELATIONSHIP (IN HINDI ) में  रहने का सबसे बड़ा  फायदा ये भी है कि दोनों आत्मनिर्भर होते हैं! Financially भी!लेकिन एक दूसरे की मदद ले सकते हैं!

6. यह एक ऐसा रिश्ता है जिसमें कोई commitment नहीं  होती! जब चाहे रिश्ता तोड़ सकते हैं!

7. इस रिश्ते से  अगर आप अलग होना चाहते हैं  तो तलाक  जैसी प्रक्रिया से नहीं  गुज़रना पड़ता!

8. बिना शादी किये साथ  में  रहने से संबंध गहरे होते हैं! एक दूसरे के लिये प्यार बढ़ता है! एक-दूसरे को समझने का मौका मिलता है!

9. इस रिश्ते में  रहकर अपने साथी को चुनने की आज़ादी होती है! बिना कोई रोक टोक अपनी पसंद का साथी चुन सकते हैं!

10. LIVE-IN RELATIONSHIP में  एक दूसरे के लिये विश्वास बढ़ता है जो भविष्य को सुदृढ़ बनता है!

11. इस रिश्ते में रहने वालों पर  भी कानून लागू होता है! लड़की को भी विशेष अधिकार दिये जाते हैं ताकी उसका भविष्य सुरक्षित रहे हर परिस्थिति में!

LIVE IN RELATIONSHIP के नुकसान.

Live in Relationship in Hindi
Live in Relationship in Hindi  

LIVE IN RELATIONSHIP (IN HINDI) में  रहकर जहाँ भविष्य से संबंधित निर्णय अच्छी प्रकार से लिये जा सकते है  वहीं इस रिश्ते से कुछ बुरे प्रभावों से भी गुज़रना पड़ सकता है! कहते हैं ना अच्छाई और बुराई हर चीज़ के दो पहलू होते हैं! आइये प्रकाश डालते हैं कुछ ऐसे अनछुए पहलुओं पर जो ज़िंदगी बर्बाद भी कर सकते हैं!

1. इस रिश्ते में बेशक उम्र 18 हो पर  18 ,19  साल के लड़के लड़कियाँ दिमाग से इतने परिपक्व नहीं हुए जो साथ में  रहने का निर्णय करें!

2. इस रिश्ते में  जल्दी ही  रम जाना लड़के लड़कियों को अपने कैरियर से भटका सकता है!

3. Young Generation में  शारीरिक संबंधों की हिचकिचाहट खत्म हो जायेगी! जो लड़का लड़की के भविष्य ही नहीं  सेहत पर  भी असर डालेगा!

4. अस्थिर रिश्ते  में समय गुजारने के बाद अगर अलगाव की स्थिति आती है तो EMOTIONAL PAIN से गुज़रना पड़ सकता है! ये सब इतना आसान  नहीं!

5.  सम्बन्ध  टूटने के बाद कई  लड़कियाँ आत्महत्या तक पहुँच जाती है! दुख सहन नहीं कर  पाती!

6. इस रिश्ते के नाम पर कईं बार लड़कियाँ घर से भाग जाती हैं और शारीरिक व मानसिक पीड़ा की शिकार होती हैं!

7. LIVE IN RELATIONSHIP को दुनिया आज भी तुच्छ नजरों से देखती है! तिरस्कार का समान करना पड़ता है!

8.  ऐसे रिश्ते अक्सर परिवार का विश्वास खो देते हैं! उनकी अवहेलना का सामना करते हैं!

9. इस रिश्ते  में  कोई COMMITMENT नहीं  होता! इसलिये असुरक्षा का भाव जन्म लेता है!

10. बिना शादी के होने वाले बच्चे असुरक्षित माहौल में  जीते हैं! समाज की निन्दा का सामना करते हैं! परिवार भी अपनाने को तैयार नहीं  होता!

ठहराव ( Stability in LIVE-IN RELATIONSHIP)

युवक और  युवती का व्यस्क होना तो आवश्यक है ही इस रिश्ते में! लेकिन सोच का परिपक्व होना भी बेहद जरुरी है!

पुरुषों को ये समझना होगा कि केवल physical needs को पूरा  करने के लिये ही यह रिश्ता नहीं  बनाया जाता!और ना ही केवल दिल्लगी और  मौज़ मस्ती के लिये आप एक दूसरे के साथ रहते है!

यह एक responsibility है जो आपके भविष्य को भी प्रभावित करती है! दोनों  पक्षों को समझना होगा कि इस रिश्ते से सम्बन्धित कुछ कानून बनाये गये हैं जिनका पालन करना अति आवश्यक है!

 परिपक्व सोच के साथ अपने भावी भविष्य की ओर कदम बढ़ाने  से पहले इस रिश्ते से सम्बन्धित सभी जानकारी ले लेनी चाहिये!

निष्कर्ष

गहराई से अध्ययन करने के बाद LIVE-IN RELATIONSHIP (In Hindi)को समझ तो गये हैं  परंतु सवाल उठना फिर भी लाज़मी है! सोचा जाये तो हर इन्सान की अपनी सोच, अपनी ज़िंदगी तो कोई क्यूँ उन्हें जीने से रोके! पर ये कहना भी गलत नहीं  होगा!

अपने साथ हुए अच्छे बुरे की जिम्मेदारी भी खुद ही लेनी होगी! बहुत सोच समझकर, सभी बातों को गौर  करने के बाद ही निर्णय लें! रिश्ते इतनी आसानी से नहीं  बनते, सींचना पढ़ता है प्रेम के अमृत से!

      रिश्ते ही जीवन की सबसे बड़ी  पूँजी है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *