Home HERBS Methi Meaning in English | What is Meaning of Methi in English

Methi Meaning in English | What is Meaning of Methi in English

by Manish Sharma
Methi Meaning in English

Methi Meaning in English | What is Meaning of Methi in English

Methi Meaning in English:

मेथी को इंग्लिश में “फेनुग्रीक” (Fenugreek) कहते हैं।

मेथी (के पत्ते) या मेथी के दाने, यह भारतीय रसोईघरों में पाया जाने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण खाद्यपदार्थ है। पर शायद आपको यह जानकर बहुत ही आश्चर्य होगा कि मेथी औषधीय गुणों से भरपूर है तथा यह हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अत्यंत ही लाभवर्धक भी है। भले ही यह मेथी के दाने छोटे छोटे होते हैं पर प्राकृतिक रूप से इनमें अनगिनत स्वास्थ्य लाभ के गुण पाये जाते हैं।

मेथी के बीज में प्रभावी रोगाणुरोधी, एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, मधुमेह विरोधी और एंटीवायरल गुण पाएं जाते हैं। मेथी के पत्ते तथा मेथी के बीज बडी आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं तथा इनमें पाये जाने वाले स्वास्थ्य गुणों के कारण भारतीय रसोईघरों में इनका इस्तेमाल बडे पैमाने पर किया जाता है। पूरे विश्व में, भारत में मेथी का उत्पादन सबसे अधिक होता है। मेथी के दानों का प्रयोग विभिन्न प्रकार के मसालों को तैयार करने में किया जाता है।

मेथी के पत्तों से हम विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन बना सकते हैं जैसे मेथी पराठा, मेथीवाली दाल, मेथी के पकौडे, इत्यादि। गुजराती लोगों के घर में अक्सर मेथी से बने हुए थेपले ब नाने का प्रचलन सालों से चला आ रहा है। मेथी के थेपले बहुत ही स्वदिष्ट होते हैं तथा लोग उन्हें बडे चाव से खाते हैं। मेथी के पत्तों में लोहा, कैल्शियम, फास्फोरस तथा प्रोटीन, विटामिन K अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है।”

 

मेथी के फायदे (Methi Ke Fayde):

  • मेथी के बीज में कोलेस्ट्रॉल कम करने की भी क्षमता है। इसमें निहित घुलनशील फाइबर पचे हुए खाने के चिपचिपेपन को बढ़ा शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में सहायता करता है। हानिकारक कोलेस्ट्रॉल रक्त-धमनियों में रुकावट पैदा कर सकता है और प्रभावित व्यक्ति को दिल का दौरा या फिर स्ट्रोक हो सकता है और मेथी के बीज हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करने में अत्यंत सहायक है।
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए रोजाना दो औंस मेथी के बीजों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। सूखे मेथी के बीजों को भून लें और फिर उसे पीसकर चूर्ण बना लें। आप इस चूर्ण का इस्तेमाल खाने पर छिड़क कर या फिर पानी के साथ कर सकते हैं।
  • 4 चम्मच मेथी पाउडर, 1 नींबू का रस, 1 केला मसला हुए लें। इन सबको मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे सिर पर लगाकर सूखने के बाद धोयें। इससे बाल साफ, मुलायम और चमकदार हो जायेंगे। 4 बड़े चम्मच दही में 3 चम्मच पिसे हुए मेथी दानों को भिगो दें, आधा घंटा भीगने के बाद सिर की त्वचा पर लगाकर आधा घंटा लगायें रखें, फिर बालों को धों लें। इससे बाल मुलायम हो जाएंगें।
  • रोजाना 1 चम्मच इस मिश्रण की पानी से फंकी लगातार 2 महीने लेते रहने से मधुमेह (डायबिटीज) में आराम मिलता है। 100 ग्राम भुनी हुई दाना मेथी और 100 ग्राम जामुन को पीसकर मिला लें। इस मिश्रण को 2 चम्मच लेकर करेले के रस और पानी के साथ सुबह-शाम रोजाना लेने से मधुमेह (डायबिटीज) में लाभ मिलता है।”
  • मेथी मेटाबोलिज्म को भी सुधारती है। जिसके कारण कमजोरी दूर होती है। मेथी के खाने से पेट के कृमि (कीड़े) नष्ट होते हैं, भूख बढ़ती है, कब्ज दूर होता है, पेट साफ होता है, पेट की आंव को पतलाकर बाहर निकालती है। दाना मेथी 4 घंटे पानी में भिगोकर उसी पानी में उसकी सब्जी बनाकर रोजाना खाने से गैस, अपच, वात में आराम मिलता है। मेथी यकृत, आमाशय और नाड़ी-संस्थान पर अपना काफी अच्छा प्रभाव छोड़ती है। मेथी पेट से सम्बंधित विकारों को दूर करती है।”
  • मेथी के ताजे पत्ते तथा हल्दी के पेस्ट को चेहरे पर लगाने से चेहरे की त्वचा पर से कील-मुहांसे तथा काले दाग धब्बे दूर होने में मदद मिलती है। तथा त्वचा साफ-सुथरी होने लगती है। मेथी के बने फेस पैक ब्लैकहेड, मुँहासे, झुर्रियों को रोकने में बहुत प्रभावकारी रूप से काम करते हैं। थोड़े से पानी में मेथी के दानें डालकर उबाल लें फिर उससे मुँह को धोयें। एक और भी तरीका है, मेथी के पत्तों को पीसकर पेस्ट बना लें और उसको चेहरे पर बीस मिनट तक लगाकर रखें। सूखने पर पानी से धो लें। इस पैक से चेहरे की रौनक बढ़ जाती है।”
  • मेथी के दानों को खाने से किडनी की वजह से उत्पन्न होने वाली बीमारियों को दूर करने में काफी सहायता मिलती है। कभी कभी हमारे शरीर में विटामिन्स की कमी पायी जाती है जिससे हमें अन्य कई बीमारीयाँ होने लगती हैं जैसे मुँह में छाले आना, निरंतर जुखाम होना, त्वचा पर दानों का उभरना, क्षयरोग, अस्थमा, कैंसर इत्यादि। मेथी के दानों को नियमित रूप से खाने से हमारे शरीर को काफी स्वास्थ्य लाभ पहुँचता है।
  • मेथी की सब्जी बनाकर खाने से खून साफ होता है और खून में वृद्धि होती है क्योंकि मेथी के अन्दर आयरन प्रचुर मात्रा में होता है। इसलिए एनीमिया या खून की कमी में यह बहुत उपयोगी होती है। मेथी, पालक, बथुआ आदि रोजाना सेवन करने से शरीर में खून की कमी दूर हो जाती है।
  • 1 चम्मच दाना मेथी की फंकी रोजाना पानी से सुबह-शाम लेने से गर्दन का दर्द दूर हो जाता है। मेथी के दानों को पीसकर पानी में लेप बना लें। इस लेप को दिन में 3 बार गर्दन पर लगाने से गर्दन के दर्द में लाभ होता है।”

 

मेथी के नुकसान (Methi Ke Nuksan):

  • ज्यादा मात्रा में मेथी का सेवन करने से बचें, क्योंकि इससे उबकन एवं दस्त जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • इस जड़ी बूटी का पूरी तरह से उपयोग करने से पहले, थोड़ी सी त्वचा पर इसका इस्तेमाल कर जांच लें कि आपको इससे एलर्जी या फिर जलन तो नहीं हो रही।
  • गर्भावस्था के दौरान इस जड़ी बूटी का प्रयोग न करें।
  • यदि आप किसी भी तरह की दवा ले रहे हैं तो, अपने आहार में इस जड़ी बूटी को शामिल करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
  • मेथी गर्म होती है इसलिए अत्यधिक इसका सेवन न करें। यह पित्त को बढ़ाती है। जो लोग पेशाब में खून, मासिक धर्म और खूनी बवासीर से परेशान हों वे लोग मेथी का सेवन न करें।

 

दोस्तों आशा करता हूं Methi Meaning in English से जुड़ी यह जानकारी आप लोगों को पसंद आई होगी अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों को शेयर और कमेन्ट जरूर करें और अगर आपके पास कोई सुझाव हैं तो हमें जरूर कमेन्ट सेक्शन में लिखकर बताएं।अगर आप भी किसी वर्ड के बारे में जानना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में  लिखकर  बता सकते हैं , हम आपके सवालों के जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

Also Read:

Anjeer Meaning in English

Link:

Leave a Comment

Translate »