Normal Salt Vs Sendha Salt|कौन सा नमक सेहत के लिए बेहतर है?

Normal Salt vs Sendha Salt.

सामान्य नमक(Normal Salt) समंदर या खारे झील के पानी से तैयार किया जाता है।इसे मशीन में शुद्ध किया जाता।

वहीं सेंधा नमक(Sendha Salt) जमीन के नीचे एक चट्टान की तरह पाया जाता है। यह पूरी तरह से प्राकृतिक नमक है।

नमक के बिना कोई भी भोजन स्वादिष्ट नहीं होता। सीमित मात्रा में नमक हमारे लिए जरूरी है, लेकिन इसका अधिक सेवन करने पर हम कई गंभीर बीमारियों के शिकार बन जाते हैं। आपको ये भी जानना जरूरी है कि कौन सा नमक हमारे लिए बेहतर है?

आमतौर पर नमक तीन तरह के होते हैं

*सामान्य नमक(Normal Salt)

*सेंधा नमक (Sendha Salt)

*काला नमक (Black Salt)

सामान्य नमक समंदर या खारे झील के पानी से तैयार किया जाता है. इसे मशीन में शुद्ध किया जाता. वहीं सेंधा नमक जमीन के नीचे एक चट्टान की तरह है।यह पूरी तरह से

कुदरती है! इसके अलावा काला नमक भी सेंधा नमक जैसा ही होता है।तीनों नमक सोडियम क्लोराइड का बेहतरीन स्रोत हैं।आइये जानते हैं, सादा नमक और सेंधा नमक(Normal Salt vs  Sendha Salt) में कौन सा बेहतर होता है?

सेंधा नमक (Sedha Salt) क्या होता है?

Normal Salt vs Sendha Salt
Normal Salt vs Sendha Salt

सेंधा नमक को सैंधव नमक या लाहौरी नमक भी कहा जाता है। सेंधा नमक क्रिस्टल के रूप में पाया जाने वाला एक खनिज  पदार्थ है। यह सिंधु नदी के आस-पास के हिमालयी क्षेत्रों में चट्टानों के रूप में पाया जाता है।

 इस नमक का रंग सफेद, हल्का गुलाबी या बैगनी होता है। इसमें कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम की मात्रा ,साधारण नमक( Normal Salt) की तुलना में काफी ज्यादा होती है।

जिन लोगों को Heart और Kidney से संबंधित परेशानियां होती हैं ,उनके लिए इस नमक का सेवन बहुत फायदेमंद साबित होता है।

Normal Salt vs Sendha Salt. के आर्टिकल में अब जानते है साधारण (Normal Salt) नमक के बारे में।

साधारण नमक (Normal Salt) क्या होता है?

Normal Salt vs Sendha Salt
Normal Salt vs Sendha Salt

साधारण नमक हमें समुद्र से प्राप्त होता है, जो समुद्र जल के वाष्पीकरण के द्वारा प्राप्त कियाजाता है। इसका रंग सफेद होता है।

आमतौर पर घरों में इसी नमक प्रयोग किया जाता है। इसका रासायनिक नाम ( Chemical  name) सोडियम क्लोराइड (Sodium Chloride)  है।

 इस नमक में सोडियम (Sodium)और आयोडीन (Iodine)भी पर्याप्त मात्रा में होते है।इस नमक का यदि सीमित मात्रा में

सेवन किया जाए तो इसके बहुत  फायदे  है, लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन हमारी हड्डियों (Bones) को सीधे तौर पर प्रभावित करता है।

Normal Salt vs Sendha Salt.कौन सानमक बेहतर?

Normal Salt vs Sendha Salt.
Normal Salt vs Sendha Salt.

Normal Salt vs Sendha Salt.में के इसके इस competition आइये जानते हैं, एक दूसरे की तुलना में  कौनसा नमक लाभकारी है?

जाने माने आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार सामान्य

नमक(Normal Salt) में 97% सोडियम क्लोराइड (Sodium Chloride) होता है,जबकि रिफाइनिंग (Refining) के समय 3% अन्य चीजें मिलाई जाती है, इनमें आयोडीन प्रमुख है।आयोडीन इसलिए मिलाया जाता क्योंकि इससे ग्वायटर  बीमारी नहीं होती।

 दूसरी तरफ सेंधा नमक ( Sendha Salt) है, जो धरती के नीचे मिलता है और यह दरदरा है। इसमें लगभग 85 % सोडियम क्लोराइड(Sodium Chloride) होता है, जबकि बाकी 15%में अन्य खनिज जैसे आयरन, कॉपर, जिंक, आयोडीन, मैंगनीज, मैग्नेशियम, सेलेनियम सहित कम से कम 84 प्रकार के तत्व होते हैं।

 ये खनिज शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। Sendha Salt में ऊपर से आयोडीन मिलाने की जरूरत नहीं होती, जबकि Normal Salt में मिलाना पड़ता है।

सेंधा नमक (Sendha Salt) कुदरती  है और इसमें ज्यादा छेड़-छाड़ नहीं की जाती। इसलिए स्वास्थ्य के लिए यह बेहतर है।

Importance of Sendha Salt in Aayurveda (आयुर्वेद में सेंधा नमक का महत्व)

आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार, Sendha Salt का आयुर्वेद में काफी महत्व है। क्योंकि इसमें घुले हुए कई खनिज पदार्थ पानी में भी मिले होते हैं।

लेकिन आज पानी को Refine कर, पीने का चलन बढ़ा है, जिसके कारण पानी में मिले खनिज हमें प्राप्त नहीं होते। यही वजह है कि आजकल Sendha Salt का उपयोग बढ़ा है, लेकिन यह Normal Salt की अपेक्षाकृत महंगा होता है और दरदरा होता है, जिससे यह भोजन में पूरी तरह से मिक्स नहीं हो पाता।

आयुर्वेद डॉक्टर ने बताई सेंधा नमक की खासियत क्या है?

आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी कहते हैं कि कई तरह के खनिज होने के कारण Sendha Salt कई बीमारियों को रोकने में सक्षम है।

यह शरीर के अंदर ही नहीं चेहरे और बालों  को भी खूबसूरत बनाता है। Normal salt के ज्यादा इस्तेमाल से High Blood pressure की शिकायत बढ़ जाती है जबकि सेंधा नमक (Sendha salt) High blood pressure को कंट्रोल करता है।

सेंधा नमक (Sendha Salt) के फायदे

खाने के अलावा कई घरेलू कामों  में भी प्रयोग होता है,सेंधा नमक कब्ज की शिकायत वाले रोगियों के लिए सेंधा नमक रामबाण की तरह काम करता है।

मुख्य बातें

  • कब्ज की शिकायत दूर करने के लिए Sendha Salt बेहद लाभकारी होता है।
  • Sendha salt शरीर की सूजन को कम करता है।
  • Sendha salt के पानी से नहाने से ताज़गी का अनुभव होता है।

Sendha salt: Uses.

Normal Salt vs Sendha Salt
Normal Salt vs Sendha Salt

आजकल के लोग सादा खाना खाने की जगह तला- भुना खाना बेहद पसंद करते हैं। इस वजह से लोगों में तरह-तरह की बीमारियां भी जन्म लेती हैं।

Spicy or oily food शरीर को तो नुकसान पहुंचाता ही है लेकिन खाने में इस्तेमाल किया गया नमक भी सेहत के लिए बेहद नुकसानदायक होता है।

विशेषज्ञों के अनुसार अधिकांश लोगों को ब्लड प्रेशर की शिकायत नमक खाने की वजह से होती है। नमक हमारे शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक होता है।

यदि आप नमक की जगह Sendha Salt का खाने में इस्तेमाल करें, तो यह आपके शरीर को स्वस्थ रख सकता है।

सेंधा नमक के और भी फायदे हैं जो इस प्रकार हैं.

1. जले हुए बर्तनों को तुरंत साफ करे.

यदि 1 चम्मच सेंधा नमक (Sendha Salt) से स्क्रब के जरिए जले हुए बर्तन की सफाई करें, तो बर्तन की सारी गंदगी चुटकियों में गायब हो सकती है। इसे साफ करते वक्त आपको ज्यादा मेहनत करने की भी जरूरत नही है।

2. पौधों को स्वस्थ रखें।

यदि  पौधे पीले पड़ने लगे हो, तो उस पर Sendha Salt के घोल का छिड़काव कर दें, तो पौधे फिर से हरे भरे हो जाते हैं।

3. दाग धब्बे गायब करे.

खाना बनाते वक्त अक्सर किचन में दाग-धब्बे लग ही जाते हैं। ऐसे में यदि लिक्विड डिटर्जेंट के साथ सेंधा नमक को मिलाकर सफाई करें, तो चुटकियों में दाग-धब्बे गायब हो सकते हैं। इसका इस्तेमाल  बाथरूम में भी कर सकते हैं। 

4.मच्छर के काटने पर आराम मिलता है.

बरसात के मौसम में  मच्छर या कीड़े के काटी गई जगहों पर, सेंधा नमक और  पानी के मिश्रण को  लगाएं, तो सूजन और खुजली आसानी से दूर हो सकती हैं।

5. हाथों को मुलायम रखें .

यदि आपके हाथ रूखे हो गए हो, तो  1 चम्मच Sendha Salt में Olive oil मिलाकर हाथों में मालिश करें।  इससे मालिश करने के बाद आपके हाथ बेहद Soft हो जाएंगे। 

6.कब्ज की समस्या को दूर करे.

गलत खानपान की वजह से अक्सर लोगों में कब्ज की शिकायत देखने को मिलती है। ऐसे में यदि आप 1 चम्मच सेंधा नमक को पानी में मिलाकर रोजाना पिएं, तो आपकी कब्ज की शिकायत कुछ ही हफ्तों में दूर हो सकती है।

7 पैरों को खूबसूरत रखे.

शारीरिक और मानसिक तनाव आजकल के लोगों को उम्र से पहले बूढ़ा बना देता है। यह पैर के रिंकल्स को दूर कर पैरों को Healthy बनाएं रखता है। यदि आप गर्म पानी में आधा कप सेंधा नमक मिलाकर आधा घंटा अपने पैरों को उसमें डुबोकर रखे तो कुछ ही हफ्तों में आपके पैर पहले की तरह नजर आने लगते है।

8. Stress को दूर करे.

Sendha Salt, मानसिक तनाव को दूर करने में बेहद लाभकारी होता है। यदि आप सेंधा नमक को पानी में मिलाकर नहाएं, तो इसमें मौजूद मैग्नीशियम आपके मानसिक तनाव को कम करने के साथ-साथ आपके मूड को भी तरोताजा बना देता है।

9.Body Pain से दिलाए राहत.

विशेषज्ञों के अनुसार सेंधा नमक सूजन, घाव या किसी जगह पर आई मोच को दूर करने में रामबाण की तरह काम करता है। सेंधा नमक शरीर के विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालने में मदद करता है।

 यदि आप 2 कप सेंधा नमक के पानी में  20 मिनट के लिए दर्द वाले स्थानों पर सेक करे, तो आपके शरीर के दर्द कुछ ही घंटों में दूर हो सकते हैं।

निष्कर्ष ( Conclusion)

इस प्रकार आपने जाना कि Normal Salt  और Sendha salt में  कौन सा salt बेहतर है? सही नमक का इस्तेमाल कर अपनी जीवन शैली को Healthy बनाइए और  रोगों से मुक्ति पायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *