Home EXAM UPSC Full Form in Hindi | What is the Full Form of UPSC in Hindi

UPSC Full Form in Hindi | What is the Full Form of UPSC in Hindi

by Manish Sharma
UPSC Full Form in Hindi

UPSC Full Form in Hindi । What is the Full Form of UPSC in Hindi

दोस्तों आप लोगों में से कई लोगों के मन में,यूपीएससी का मतलब (UPSC Full Form in Hindi) क्या होता है, यूपीएससी क्या है, यूपीएससी के कार्य क्या है, यूपीएससी के अंतर्गत कौन-कौन से पद आते हैं, यूपीएससी द्वारा कौन-कौन सी परीक्षाएं करवाई जाती है, यूपीएससी एग्जाम का स्वरूप क्या होता है, यूपीएससी एग्जाम देने के लिए कितनी योग्यता होनी चाहिए, जैसे सवाल उत्पन्न होते हैं और अगर आप भी UPSC बैंक से जुड़े इन सवालों के जवाब ढूंढ रहे हैं तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें।

UPSC का अर्थ (UPSC Full Form in Hindi)

अगर UPSC की फूल फॉर्म की बात की जाए तो वो होता है, संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission) और इसकी स्थापना  “1 अक्टूबर 1926” में हुई थी

UPSC क्या है? What is UPSC in Hindi?

यूपीएससी (UPSC) एक स्वतंत्र संगठन  है जिसके द्वारा A ग्रेड  और B  ग्रेड के अधिकारियों को चुना जाता है। आजादी के बाद  लोक सेवा आयोग (Public Service Commission) में कुछ बदलाव करके तथा इसके अधिकारों में विस्तार करते हुए इसे संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission)  में बदल दिया गयाUPSC का मुख्य काम प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी के अधिकारियों  या सिविल सेवकों की चयन प्रक्रिया को पूरा करना है

UPSC परीक्षाओं के द्वारा ही पूरे देश में आईएएस और आईपीएस अधिकारियों को  चुना जाता हैसंघ लोक सेवा आयोग (UPSC) केंद्र और राज्य सरकार के तहत आने वाली 24 लोक सेवाओं में भर्ती के लिए जिम्मेदार होता हैUPSC की परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा में से एक है  जिससे पास  करना कई विद्यार्थियों का सपना होता है

UPSC के तहत आने वाले पद (PostsThat Fall Under UPSC):

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के द्वारा मुख्य रूप से इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (IAS), इंडियन पुलिस सर्विस (IPS), इंडियन फॉरेस्ट सर्विस (IFS) की भर्ती प्रक्रिया पूरी की जाती है साथ ही साथ संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा अन्य विभागो के Level A और Level B के अधिकारियों को चुनने के लिए परीक्षा का आयोजन भी करवाया जाता है UPSC द्वारा हर साल सिविल सेवा परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है।

UPSC के कार्य क्या है? 

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 320 के तहत संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) को सिविल सेवा परीक्षा तथा अधिकारियों की भर्ती के लिए अधिकार दिए गए हैं ,इससे जुड़े किसी भी मामले में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) परामर्श लेना अनिवार्य है।संविधान के अनुच्छेद 332 के अंतर्गत UPSC द्वारा किए जाने वाले कार्य निम्नलिखित है:

  • संघ लोक सेवा अधिकारियों की नियुक्ति हेतु परीक्षा का आयोजन करवाना।
  • इंटरव्यू द्वारा अधिकारियों की सीधी भर्ती और चयन प्रक्रिया को पूरा करना।
  • प्रमोशन द्वारा अधिकारियों की नियुक्ति प्रक्रिया पूरा करना।
  • सरकार के अधीन आने वाले विभिन्न प्रकार की सेवाओं तथा पदों के लिए भर्ती प्रक्रिया के नियम तैयार करना तथा उनमें संशोधन करना।
  • अधिकारियों के अनुशासन संबंधित मामलों को संभालना।

UPSC द्वारा आयोजित करवाई जाने वाली परीक्षाएँ:

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा करवाए जाने वाली कुछ परीक्षाएं निम्नलिखित हैं :

  • सिविल सर्विस परीक्षा
  • इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा
  • नौ सैनिक अकादमी परीक्षा
  • भारतीय वनसेवा क्षेत्र से जुड़ी परीक्षा
  • संयुक्त चिकित्सा सेवा से जुड़ी परीक्षा
  • संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा
  • केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल परीक्षा
  • सीआईएसएफ से जुड़ी परीक्षा

UPSC भर्ती प्रक्रिया (UPSC Appointment Process)

मुख्य परीक्षा (Main Exam) पास करने के बाद उम्मीदवारों को पर्सनल इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। यह इंटरव्यू लगभग 45 मिनट का होता है। इन उम्मीदवारों का इंटरव्यू एक पैनल के सामने होता है। इंटरव्यू के बाद मेरिट लिस्ट बनाई जाती है जिसके आधार पर इन अधिकारियों का चयन होता है यहां एक बात और ध्यान में रखने वाली यह है कि मेरिट लिस्‍ट बनाते समय क्‍वालिफाइंग पेपर के नंबर नहीं जोड़े जाते हैं।

UPSC एग्जाम का स्वरुप (UPSC Exam Pattern) 

यूपीएससी की परीक्षाएं तीन चरणों में पूरी करवाई जाती है जो इस प्रकार है:

प्राथमिक परीक्षा (Preliminary Exam): प्राथमिक परीक्षा पहला चरण है हालांकि इसमें प्राप्त किए गए अंको को अंतिम मेरिट लिस्ट में नहीं गिना जाता।प्राथमिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं जोकि ऑब्जेक्टिव प्रश्नों से भरे होते हैं।

प्राथमिक परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी होती है जिसका की विद्यार्थियों को विशेष ध्यान देना होता है क्योंकि प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 अंक प्राप्त अंको से काट लिए जाएंगे।पहले पेपर को क्वालीफाइंग पेपर माना जाता है जबकि दूसरे पेपर मैं आपको कम से कम 33% अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।

मुख्य परीक्षा (Main Exam): मुख्य परीक्षा में कुल मिलाकर 9 पेपर होते हैं, जो विद्यार्थी प्राथमिक परीक्षा को क्लियर कर लेता है वही विद्यार्थी मुख्य परीक्षा में बैठ सकता है।मुख्य परीक्षा में सभी पेपर वर्णनात्मक (Descriptive Types) के होते हैं।इसमें दो भाषाओं के पेपर क्वालीफाइंग पेपर माने जाते हैं।मुख्य परीक्षा को 5 से 7 दिन की अवधि में पूरा कर लिया जाता है। पेपर A और B क्वालीफाइंग पेपर होते हैं और बाकी बचे हुए पेपर में विद्यार्थियों को कम से कम 25% अंक प्राप्त करना जरूरी है।

इंटरव्यू  (Interview):मुख्य परीक्षा (Main Exam) पास करने के बाद उम्मीदवारों को पर्सनल इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है इस परीक्षा का अंतिम चरण होता है।साक्षात्कार यानी इंटरव्यू 275 अंको का होता है इस प्रकार मेरिट लिस्ट के लिए कुल अंक 2025 हो जाते हैं। यह इंटरव्यू लगभग 45 मिनट का होता है। इन उम्मीदवारों का इंटरव्यू एक पैनल के सामने होता है।

इस इंटरव्यू में छात्रों से पहले जनरल इंटरेस्ट से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं और इसके बाद छात्रों की मानसिक क्षमता को आंका जाता है कि वह इस पद पर रहकर न्याय कर पाएगा या नहीं। इंटरव्यू के बाद मेरिट लिस्ट बनाई जाती है जिसके आधार पर इन अधिकारियों का चयन होता है यहां एक बात और ध्यान में रखने वाली यह है कि मेरिट लिस्‍ट बनाते समय क्‍वालिफाइंग पेपर के नंबर नहीं जोड़े जाते हैं।

आवश्यक योग्यता (Required Qualification)

सिविल सेवा परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं तो इसके लिए आपका किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट (Graduate) होना अनिवार्य है साथ ही साथ इसमें अन्य देश के विद्यार्थी भी शामिल हो सकते हैं जैसे नेपाल, भूटान आदि बशर्ते उनके पास ग्रेजुएट की डिग्री हो 

UPSC के लिए उम्र की सीमा (Age Limit For UPSC):

UPSC की परीक्षा देने के लिए सामान्य वर्ग (General Category) के उम्मीदवारों हेतु न्यूनतम उम्र 21 वर्ष एवं अधिकतम 32 वर्ष हैं होनी चाहिए और वे अधिकतम 6 बार इस परीक्षा में बैठ सकते हैं।

वही SC-ST छात्रों को उम्र में 5 वर्ष की छूट दी जाती है, यानी इन उम्मीदवारों हेतु न्यूनतम उम्र 21 वर्ष और अधिकतम उम्र है 37 वर्ष हो जाती है और अगर छात्र किसी अन्य पिछड़े वर्ग से है तो उसे 3 वर्ष की छूट दी जाती है तथा इस वर्क से जुड़े विद्यार्थी अधिकतम 9 बार इस परीक्षा में बैठ सकते हैं।

युपीएससी (UPSC) की तैयारी कैसे करें
यह एक बहुत बड़े लेवल पर होने वाली एग्जाम हैं तो इसे आप आसान ना समझें । इस परीक्षा में बहुत तगड़ी प्रतिस्पर्धा (tough competition) रहता हैं । कई लोग सालों की मेहनत के बाद भी इस परीक्षा में सफल नहीं हो पाते हैं । आप अगर वाकई में इस UPSC में सफल होना चाहते हैं तो इन बातों का विशेष ध्यान रखना होगा ।

कोचिंग ज्वाइन करें : देश में कई सारी आईएएस/आईपीएस की तैयारी के लिए कोचिंग हैं जो आप ज्वाइन कर सकते हैं । वहां पर आपको हर नई जानकारी/न्यूज़/सूचना आदि से अपडेट रखा जायेगा एवं आपको एक पढ़ने का माहोल भी मिलेगा । साथ ही साथ कई वर्षों के पेपर एवं स्टडी मटेरियल आदि आपको कोचिंग के द्वारा उपलब्ध कराएँ जायेंगे ।

इन्टरनेट की मदद : आज इन्टरनेट हर व्यकित के पास मोजूद हैं तो बेहतर होगा कि आप उसका सही उपयोग अपने ज्ञान को बढ़ाने में करे एवं पिछले वर्षों के पेपर, जनरल नॉलेज, न्यूज़ आदि पढ़ते रहें ।

न्यूज़ पेपर : यह एक सबसे बेहतरीन तरीका होता है अपने नॉलेज को बढ़ाने के लिए आप हिन्दी एवं इंग्लिश के कई सारे अखबार रोज पढ़ने की आदत डालें । हो सके तो किसी लाइब्रेरी ज्वाइन कर लें जहाँ पर आपको एक साथ सारे अख़बार पढ़ने को मिल जायेंगे ।

युपीएससी (UPSC) क्लियर करने के बाद कहाँ जॉब मिलता हैं
जैसा कि मैंने ऊपर ही बताया है कि UPSC अलग अलग Exam Conduct करती हैं, तो यह निर्भर करता है कि आप UPSC द्वारा संचालित कौनसी परीक्षा दे रहें हैं । यदि आप UPSC द्वारा आयोजित CSE सिविल सर्विस एग्जाम क्लियर कर लेते हैं तो आप ग्रुप A के अधिकारी जैसे कलेक्टर, अपर कलेक्टर, सचिव आदि पदों पर जा सकते हैं।

CSE के आलावा अन्य कई Exam जैसे ESE, CDS, NDA आदि कई तरह की परीक्षा UPSC द्वारा ही आयोजित की जाती हैं । जिस तरह की परीक्षा देंगे आपका वैसे ही सिलेक्शन होगा ।

UPSC की ऑफिसियल वेबसाइट (Official Website of UPSC):

यूपीएससी परीक्षाओं से जुड़ी और भी जानकारियों के लिए आप इसके ऑफिशल वेबसाइट https://www.upsc.gov.in/ पर जा सकते हैं।

कई बहुत सारे नियम और कानून बदल भी दिए जाते हैं तो बेहतर यही होगा कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपके मन में अगर कोई सवाल आता है तो आप इसकी ऑफिशल वेबसाइट पर ही जाकर चेक करें ताकि आपको सही जानकारी मिल सके और अगर हमारे लिए संभव होता है तो हम भी आपके सवालों के जवाब देने का पूरा प्रयास करेंगे।

 

आशा करता हूं UPSC Full Form in Hindi से जुड़ी यह जानकारी आप लोगों को पसंद आई होगी अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों को शेयर और कमेन्ट जरूर करें और अगर आपके पास कोई सुझाव हैं तो हमें जरूर कमेन्ट सेक्शन में लिखकर बताएं। अगर आप भी किसी फूल फॉर्म के बारे में  जानना चाहते हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं।

Also Read:

IPS Full Form in Hindi

IAS Full Form in Hindi

Link:

Related Articles

Leave a Comment

Translate »